yqtv

QUOTES ON #HINDIPOEM

#hindipoem quotes

Trending | Latest
Nikhil Kapoor 4 HOURS AGO

" छुपा लेता हूं ' खुद ' को "खुद ही ' में मैं ,
आइने में ' खुद ' को देख कर ,
गलत कहती थी मां ,
सच्चाईयां पाक हुआ करती हैं । "

-


2 likes · 3 shares
Annu Singh 12 HOURS AGO

पैर की मोच और छोटी सोच
हमें आगे बढ़ने नहीं देती,
टूटी कलम और औरों से जलन
खुद का भाग्य लिखने नहीं देती,
काम का आलस और पैसों का लालच
हमें महान बनने नहीं देता,
अपना मजहब ऊँचा और गैरों का ओछा
ये सोच हमें इन्सान बनने नहीं देती !!

-


8 likes · 3 comments
Shayar Anjana 14 HOURS AGO

अक्सर वो इस बात को बड़े गौर से समझाते हैं,
नाचना आता नहीं और आंगन टेढ़ा बतलाते हैं।

-


Show more
12 likes · 2 comments · 1 share
Anil Kumar Verma 15 HOURS AGO

कभी तो ख्याल सुहाने लाओ
नए से डर लगता है
मेरे वो दिन पुराने लाओ
याद आती है वो सर्द राते
आग का घेरा
दोस्तों का डेरा
वो कच्ची सोच के तराने सुनाओ
वो नुक्कड़ पर बातें हज़ार
सब भूल कर यार
एकतरफा प्यार
उसमे भी इतना ख़ुमार
वो पुराने अफ़साने लौटाओ
मतलब की इस दुनिआ
अब दिल भी धंधा करता है
गैरत की उस बगिआ के
ख़्वाब मेरे सिरहाने लाओ
कभी तो ख्याल सुहाने लाओ
- अमुक्त

-


5 likes
Plaban Mohanty 17 HOURS AGO

मेरा माज़ी बस मेरे यादों में रहता है
मेरा एक गाँव था, अब उसमें एक शहर बसता है
चौराहे पर जहाँ बच्चे cricket खेलते थे
अब वहाँ कुछ लड़के मोबाइल पे दिन भर रहते हैं
वो जो सर्दियों के सवेरे नुक्कड़ के चाई वाले से
लिहाफ़ लेती थी
आज कल cafe के बंद दरवाज़े के पीछे
Jazz music पे नींद खोलती है

उम्र-ए-गुज़िशता मेरे यादों के जज़ीरे में कहीं
क़ैद पड़ा है |

-


3 likes · 1 share
vivek singh YESTERDAY AT 21:10

मेरी सोच
आपके बारे में
अप्रासंगिक है
मेरा मकसद
स्वार्थी है
जब आप बढ़ते हैं, तो मैं बढ़ता हूं।
मैं लाभकारी हूं
आपकी आलोचना की गर्मी में
आज आप मेरी समीक्षा करो
कल मेरा अभ्युदय होगा....

-


18 likes · 1 comments · 2 shares
Shayar Anjana YESTERDAY AT 20:44

जो बीत गया सो बीत गया
अब लौट के आकर क्या करे,

जो ना रहा, जो ना मिला
अब उसको पाकर क्या करें,

एक नई सोच उपजाई है मैंने
नए फल भी पा जाऊंगा मैं,

जो छोड़ दी राहें बरसों पहले
अब उस ओर जाकर क्या करें।

-


Show more
5 likes · 1 share
Quotes Corner YESTERDAY AT 8:57

सुनो तुम बैठकर तुमको,कहानी इक सुनाते हैं|
भौंरे फूल की चाह में,जैसे गुन गुनाते हैं|
हो मदहोशी में पागल,किसी भी फूल के वश में...
वो आशिक उसकी चाह में,घर अपना भूल जाते हैं|

-


Show more
45 likes · 4 comments
Sandeep Narang 14 DEC AT 21:30

पतझड़ में कभी गिरते खामोश पत्तों की आवाज़ सुनी...
ये उनकी चीखें होती हैं शजर से जुदा हो जाने की..!!___sn

-


9 likes

Fetching #hindipoem Quotes

Trending Videos
Fetching Feed..