#हम

138 quotes

मैं भी मैं हूँ और तू भी तू है 
बस हम कहने का हक खो बैठे है

#मैं#हम#YQdidi#

25 JUN AT 19:09

एक बात तो समझ में आती हैं की हम इतनी 
परेशानिया लेकर नही आये थे जितनी लेकर जाएंगे..!!

Ek baat to samajh me aty hai ki hum itne pareshaniya lekar ni aye the jitne lekar jaenge..!! 😂😅

#YQdidi #YQbaba #morning #scribbles #humour #fun #reality #life #words #YourQuote #understanding #emotions 📝🙏✌🙃 ur views pls 😅 hain naaaa Ruftaz Raj DEAR DIARY Bibhuti Saikia Amita Pandeya mam Pratik Pandya Ankit Mayank Manshi Rajgaria Ananiya Kushwaha Shubhendra Jaiswal sir Rishi Arya Varsha M and Shib Shankar 😉 एक बात तो #समझ में आती हैं की #हम इतनी #परेशानिया लेकर नही आये थे जितनी #लेकर जाएंगे..!!

23 JUN AT 10:10

क्यों ख़फ़ा-ख़फ़ा से, रहते हैं हम सब
रहना हैं यहीं, 'यहीं नहीं रहते' हैं हम सब
कभी इससे नाराज़, कभी उससे नाराज़ 
'ख़ुद से ही', क्यों नाराज़ रहते हैं हम सब
कौन दिल दुखायेगा, कौन क्या ले जायेगा
अकेले आये थे, अकेले ही जायेंगे हम सब
कल के ज़ख्म को, आँसुओं से सींचते हैं
आज की हँसी को, क्यों 'तरसाते' हैं हम सब
यह होगा वो होगा, यह ना होगा वो ना होगा
हर पल सिर्फ़ 'खौफ़' ही क्यों खाते हैं हम सब
आओ याद करें, बचपन की वो बेबाक़ हँसी
ख़ुद को याद कर, ख़ुद को हँसाते हैं हम सब
आओ! जीवन में कुछ पल, यहीं रुक जाते हैं
रंज-ओ-गम भूल, कुछ गुनगुनाते हैं हम सब
ग़म मेरे कुछ ज़्यादा, तुम्हारे कुछ कम हैं
चलो! अब एक-दूसरे को, हँसाते हैं हम सब
ख़ुद ही ख़ुद पर, आज एक 'अहसान' कर दें
आओ! अपने होने का, जश्न मनाते हैं हम सब
- साकेत गर्ग

Aao! 'apne hone ka', jashn manate hain hum sab! #MuchNeeded #motivational #SelfMotivation #philosophy #life क्यों ख़फ़ा-ख़फ़ा से, रहते हैं हम सब रहना हैं यहीं, 'यहीं नहीं रहते' हैं हम सब कभी इससे नाराज़, कभी उससे नाराज़ 'ख़ुद से ही', क्यों नाराज़ रहते हैं हम सब कौन दिल दुखायेगा, कौन क्या ले जायेगा अकेले आये थे, अकेले ही जायेंगे हम सब कल के ज़ख्म को, आज के आँसू से सींचते हैं क्यों आज की हँसी को, 'तरसाते' हैं हम सब यह होगा वो होगा, यह ना होगा वो ना होगा हर पल सिर्फ़ 'खौफ़' ही क्यों खाते हैं हम सब आओ याद करें, बचपन की वो बेबाक़ हँसी ख़ुद को याद कर, ख़ुद को हँसाते हैं हम सब आओ! जीवन में कुछ पल, यहीं रुक जाते हैं रंज-ओ-गम भूल, कुछ गुनगुनाते हैं हम सब ग़म मेरे कुछ ज़्यादा, तुम्हारे कुछ कम हैं चलो! अब एक-दूसरे को, हँसाते हैं हम सब ख़ुद ही ख़ुद पर, आज एक 'अहसान' कर दें आओ! अपने होने का, जश्न मनाते हैं हम सब - साकेत गर्ग #YoPoWriMo #MotivationalPoem #हिंदी #हिंदी_कविता #जिंदगी #motivation #खफा #नाराज #कल #आँसू #आज #खौफ #हँसी #जश्न #गम #हम #जीवन #YQBaba #YQDidi #SaGa

21 JUN AT 2:43