#पन्ना

65 quotes

इज़ाज़त चाहति हुँ,
सपनो के कुछ पन्ने खोलना चाहति हुँ|
आसमान को छूना नहीं,
बस देखना चहति हुँ|
सितारों को तोडना नहीं,
उन जैसे चमकना चाहति हुँ|
बारिश में भीगना नहीं ,
बूंदो से खेलना चाहतीं हुँ|
दोस्तों का झुंड नहीं,
एक सच्चा दोस्त चाहती हुँ|
रोने पर दुखः नहीं,
उन्हे संभालनेवाला एक हमसफर चाहति हुँ|
इज़ाज़त चाहति हुँ,
इन पन्नों को पूरा करना चाहति हुँ||

#पन्ना#yqbaba#yqdidi#bestofyourquotes#lifelessons

2 SEP AT 18:07

मौन प्रेम , भादो की बरखा 

(In caption👇👇👇)

अगर तुमने कभी प्रेम किया है तो तुम समझ सकोगे मेरे मौन शब्दों को । भीगी हुए हैं मेरे ये शब्द भादो की उमस भरी बारिश में और........ और उन एहसासों में जिसे मैंने जीया है । तुम स्वयं में प्रेम की परिभाषा हो । "तुम मुझसे अब लड़ते क्यों नही ?" पूछा था मैंने । "क्यों की अब मैं बंध चूका हूँ तुम्हारे साथ उस बन्धन में जो अटूट है बंधा तो कल भी था पर ईश्वर के हस्ताक्षर हैं अब हमारे प्रेम के दस्तावेजों पर ।" निःशब्द कर देते हो तुम हमेशा मुझे ।। जानते हो तुम मुझसे योजन दूर हो पर पृथक नही क्यों की हर रोज़ तुम मुझसे होकर गुजरते हो इस हवा में , इस सतरंगी इंद्रधनुष में और ........ और जब इन बारिश की बूंदों से होकर मुझे छु देते हो विश्वास करो मेरा अंतर्मन सकुचा जाता है । तुमने मुझे एक बार जो छु लिया है इन सांसों की सौगन्ध कोई और छु न सकेगा । मेरी तूलिका कभी कभी उदास होती है कभी कभी उबासी भी लेती है ......... शिकायत है इसकी तुम्हारे अलावा कुछ और लिखने ही नही देती मैं इसे । योजन का सफ़र तय करके हर रोज आते हैं तुम्हारे ख़्याल .......तुम्हारे एहसास .... ताकि मैं जिंदगी में जीवन भर सकूँ , तुम्ही कहो न इससे बड़ा प्रमाण क्या होगा तुम्हारे ह्रदय में मेरे लिए प्रेम होने का ।। इस प्रेम की शक्ति पर मुझे पूरा विश्वास है शायद यही विश्वास शकुंतला में प्राण वायु का संचार करती रही होगी और यही विश्वास राधा के योगमाया का आधार बनी होगी । मीरा के विषपान के लिए ये अटूट विश्वास ही तो सूत्रधार बना होगा न । मेरा एक जन्म पूर्ण हुआ जिस दिन माँ के गर्भ से मैंने जन्म लिया था अब मेरे दूसरे जन्म में पदार्पण के लिए तुम्हे आना होगा जानती हूँ सफ़र कठिन है एक काल से दूसरे काल में पर मैं प्रतीक्षा करूंगी ........ इसी जगह तूम्हारी यादों एहसासों और उबासी लेती तूलिका को थपकी देकर जगाती हुयी ........अनगिनत तारों उल्काओं की छत के निचे अविचल मुस्कुराती हुयी ..............अनवरत...... ...... #minakshi @@@@@@@@@@@@@@@@@ #बारिश #इंतज़ार #प्रेम #उल्का #तारें #नींद #पन्ना #आँखे #तूलिका #yqdidi #yqbaba #yqhindiurdu #yopowrimo #story #love #MM YourQuote Didi Best of YourQuote Poetry YourQuote Diary

12 AUG AT 17:35