टीस अजब उठती है
तुम्हारे चले जाने पर।
इतना खाली हूँ तो
ये भारीपन क्या है?
और इतना भारीपन है तो
फिर खाली क्या है?

द्वंद्व।

19 APR AT 6:22