Rupal Singh   (रूपल सिंह 'भारतीय नारी')
777 Followers · 21 Following

read more
Joined 11 November 2017


read more
Joined 11 November 2017
Rupal Singh 20 MAR AT 16:11

हमारी ज़िन्दगी को हमसे ही बड़ा बैर है,
हम ज़रा मुस्कुरा लेते हैं तो वो बुरा मान जाती है।

-


Show more
27 likes · 6 comments · 2 shares
Rupal Singh 8 MAR AT 17:19

मेरी पहचान मत करना महज हाँथों की चूड़ियाँ देख,
मैं दुश्मनों के वार पर तलवार भी उठाना जानती हूँ।
मेरी पहचान मत करना बेलन चौके में चलाते देख,
मैं सम्मान की रक्षा में खंजर भी चलाना जानती हूँ।
मेरी पहचान मत करना चार दिवारी में छिपी देख,
मैं बुलंदियों पर अपना नाम भी लिखना जानती हूँ।
मेरी पहचान मत करना मुझे महफिल में रोता देख,
मैं ज़िंदगी के तूफानों से अकेले भी लड़ना जानती हूँ।

-


24 likes · 5 comments · 2 shares
Rupal Singh 6 MAR AT 21:06

बात इतनी सी है कि अब थक चुकी हूँ मैं।
मुश्किलों से लड़ते लड़ते,अब टूट चुकी हूँ मैं।
हर सुबह कोशिश करती हूँ,जरा-जरा खुद को जोड़ने की,
मगर दिन ढलते ही लगता है,फिर से बिखर चुकी हूँ मैं।
दिल करता है भागकर चली जाऊँ सबसे दूर कहीं ,
मगर रिश्तों के इन बंधनों में कैद हो चुकी हूँ मैं।
बात इतनी सी है कि अब थक चुकी हूँ मैं।

-


Show more
25 likes · 4 comments · 1 share
Rupal Singh 4 MAR AT 12:17

न दौलत है न शोहरत है बस मन भोले की भक्ति में मगरूर बहुत है,
दुनिया हो न हो मेरे साथ हैं वो मुझे इस बात का गुरूर बहुत है।

-


Show more
37 likes · 7 comments · 2 shares
Rupal Singh 25 FEB AT 20:31

मुश्किलें दरवाज़े पर खड़ी हैं,
मैं भी उनसे डर कर हार नहीं मानती,
और वो मुझे हराने की जिद पर अड़ी हैं।

-


Show more
15 likes · 1 comments · 2 shares
Rupal Singh 21 FEB AT 7:43

प्रेम में हर परीक्षा सहर्ष स्वीकार है भोलेनाथ,
बस ज़माना उठाए ऊँगली तो आप थाम लेना मेरा हाथ।

-


Show more
37 likes · 8 comments · 2 shares
Rupal Singh 31 JAN AT 20:28

तोड़ देंगें वो तमाम बंदिशें जो ज़माने ने लगाई है मोहब्बत पर हमारी,
तुम बन जाना अस्तित्व मेरा और मैं चलूंगी हमेशा परछाई बनकर तुम्हारी।

-


Show more
33 likes · 4 comments · 2 shares
Rupal Singh 31 JAN AT 12:29

मैंने बना रखा था जमाने को अल्फाज़ों से दीवाना,
तुमने तो खामोश रह कर मुझे मुझसे ही चुरा लिया।

-


Show more
41 likes · 17 comments · 3 shares
Rupal Singh 26 JAN AT 11:49

लांघी जो अपनी सीमा तो तुम्हें जाने नहीं देंगें,
दाग़ भारत माँ के आँचल पर लगाने नहीं देंगें,
जिनकी हर साँस में शामिल है जुनून देशप्रेम का,
वो हिंद के वीर हिंद की शान में कमी आने नहीं देंगें।

-


Show more
29 likes · 5 comments · 2 shares
Rupal Singh 25 JAN AT 15:35

इतना ज़रूरी क्यों हूँ तुम्हारे लिए?
मैंनें मुस्कुराकर जवाब में सवाल कर दिया,
दिल के लिए धड़कन ज़रूरी क्यों है?
जीने के लिए साँसें ज़रूरी क्यों है?
रिश्ते के लिए भरोसा ज़रूरी क्यों है?
मंज़िल के लिए रास्ता ज़रूरी क्यों है?

-


Show more
32 likes · 10 comments · 1 share

Fetching Rupal Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App