Ritesh Weather   (©Weather वाणी)
38 Followers · 24 Following

मैं ज़िन्दा हूँ ये मुश्तहर कीजिए
 मेरे क़ातिलों को ख़बर कीजिए
Joined 2 April 2017


मैं ज़िन्दा हूँ ये मुश्तहर कीजिए
 मेरे क़ातिलों को ख़बर कीजिए
Joined 2 April 2017
8 DEC 2019 AT 0:29



तेरे झूठे कसमों-वादों से
तेरे जलते-सुलगते ख्वाबों से
तेरी बेरहम दुआओं से

नफ़रत करूँगा मैं ।

जब तक है जान, जब तक है जान ।।
- गुलज़ार ✍️

-


8 DEC 2019 AT 0:23


तेरा हाथ से हाथ छोड़ना
तेरा सायों का रुख मोड़ना 
तेरा पलट के फिर न देखना 

नहीं माफ़ करूंगा  मैं ।

जब तक है जान, जब तक है जान ।।
- गुलज़ार ✍️


-


8 DEC 2019 AT 0:13

बारिशों में  बेधड़क तेरे  नाचने से
बात-बात पर बेवजह तेरे रूठने से 
छोटी-छोटी तेरी बचकानी बदमाशियों से 

मोहब्बत करूंगा मैं ।

जब तक है जान, जब तक है जान ।
- गुलज़ार ✍️

-


7 DEC 2019 AT 23:18


तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ 
तेरी हंसी की बेपरवा गुस्ताखियाँ 
तेरी जुल्फों की लहराती अंगड़ाइयां 

नहीं भूलूंगा मैं ।

जब तक है जान, जब तक है जान ।।
-गुलज़ार ✍️

-


25 OCT 2019 AT 21:22

तुम संबित पात्रा की फ़ॉलोअर हो
मैं कन्हैया का अदना-सा फैन प्रिये ।

मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नही है खेल प्रिये।

-


10 OCT 2019 AT 21:08

गिले शिकवे कहाँ तक होंगे आधी रात तो गुज़री
परेशाँ तुम भी होते हो परेशाँ हम भी होते हैं

जो रक्खे चारागर काफ़ूर दूनी आग लग जाए
कहीं ये ज़ख़्म-ए-दिल शर्मिंदा-ए-मरहम भी होते हैं
- दाग़ देहलवी

-


2 OCT 2019 AT 19:25

2 अक्टूबर को सिर्फ शास्त्री जी को याद करते हो तो
ऐ मेरे दोस्त इक ग़ुलाम मानसिकता के 'संघी' हो तुम
शास्त्री जी की आड़ में गाँधी का मज़ाक उड़ाते हो तो
गोडसे को पूजने वाले,नफ़रतों में पले 'संघी' हो तुम

-


2 OCT 2019 AT 11:17

तुम पतंजलि दन्त कान्ति सी
मैं ' कोयले' की राख प्रिये ।
मुश्किल है अपना मेल प्रिये ,
ये प्यार नही है खेल प्रिय ।

-


21 SEP 2019 AT 18:24

तुम मनमोहक मोरनी की जैसी,
मैं काला कुरूप करैत प्रिये ।
मुश्किल है अपना मेल प्रिये ,
ये प्यार नही है खेल प्रिये।

-


20 SEP 2019 AT 23:57

तू ' मनुस्मृति ' की प्यासी ,
मैं ' एनहिलेशन ऑफ कास्ट ' की व्यथा प्रिये !

मुश्किल है अपना मेल प्रिये ,
ये प्यार नही है खेल प्रिये ।

-


Fetching Ritesh Weather Quotes