Priyanshu   (प्रियांशु)
708 Followers · 291 Following

Instagram - @amazepriyanshu
Joined 18 March 2019


Instagram - @amazepriyanshu
Joined 18 March 2019
Priyanshu 30 JUN AT 8:28

कवन दिशा से पिया अईले मोरे
कवन दिशा में गईलन भुलाए
कारी-कारी गोल-गोल नयन उंके
केतनो के प्राण लेई जाए
कउना दिशा के ऊ परदेसी रहले
मुआ कउओं नहीं बताए
कहिया ले पिया फेर अईहन एने
इहो सावनवा बितल जाए...

-


37 likes · 2 comments
Priyanshu 29 JUN AT 18:09

इसे भी तोड़ दिया अब और मत बिगाड़
चल समेट इसे लगाता हूं कोई जुगाड़

सायद ये माँ के आने की आहट है
जल्दी जा दौड़ के बदं कर आ केवाड़

ज्यादा बातें न बना चुपचाप कोने मे बैठ
नही तो एक दूँगा लगेगा जैसे गिरा दीवार

अब रोना चालू जा पहले दूसरे कमरे
और वहा से ला वो लाल वाला तार

मुस्किल लगता है बन पाना पर रो मत
कल सुबह नया ला दूँगा जाके बाज़ार

पापा से कुछ नहीं बोलूँगा जा खाना खा
भाई है तू मेरा करता हूँ सबसे ज्यादा प्यार

-


Show more
45 likes · 5 comments
Priyanshu 25 JUN AT 20:09

तर्क पलभर में बदलते जा रहे थे
विचार सारे उलझते जा रहे थे
मन में खुन्नस सा उबलने लगा
दिमाग गुस्से से जलने लगा
कुछ अलग करने को हम तड़पने लगे
छोटी-छोटी बातों पर भड़कने लगे
हम दूर अपनों से जाता रहे
चोट अपनों को पहुँचाता रहे
ये सब करके जब थक गए
तब जाके ये नशा टूटा
और सच्चाई से नाता जूड़ा
पा के अकेला खुद को, जब मन भर आया
सोचा इस थोड़े समय मे क्या खोया? क्या पाया?
तब मिला नया उद्देश्य जीवन में जीने का
रूठे अपनों को समझने का
उन्हें वापस बुलाने का
अकेले बैठे होंगे गैर कही पर
उनको भी गले लगाने का
सच्चाई के आईने को
कभी-कभी खुद को भी दिखाने का....

-


Show more
42 likes · 2 comments
Priyanshu 23 JUN AT 9:35

एक दिन ये नन्हें चूजे, पंक्षी बन जाएँगे।
सूखे मिट्टी की हालत बदलो से बताएँगे॥

देकर नीर बादल को सागर मचल रहा है
प्यासे सागर की कहानी नदियों को सुनाएँगे॥

डूब गया सूरज अंधेरा छा रहा है, पर
फिर सूरज निकलेगा फिर सबको जगाएँगे॥

-


54 likes · 2 comments
Priyanshu 22 JUN AT 22:26

अपने में कोई खुश कहा, यहा सबकी अलग परेशानी
मछली को थोड़ा हवा चाहिए, तो सिंह को थोड़ा पानी

-


51 likes · 4 comments
Priyanshu 14 JUN AT 16:38

एक मुसाफिर निकल पड़ा हैं
सपनो के 'पर' बुनकर
कुछ दाना वाना चुनकर
हैं निकला गगन को चूमने
हैं चला अनंत को घूमने
नदियों के बताए रास्ते पर
चल पड़ा समन्दर से मिलने
मछली संग लहरो को चीरते
कुछ राही-बटोहियो से मिलते
थोड़ी बाते-वाते करते
मंजिल की ओर बढ़ते
देखो चला मुसाफिर रे!

एक मुसाफिर निकल पड़ा है
रुकना जिसका काम नहीं हैं
मंजिल से पहले आराम नहीं हैं
तोड सके जूनन उसका
सूरज के पास वो घाम नहीं हैं
ये सफर समय का खेल पुराना
यहा सबको हैं आगे बढ़ते जाना
है राह कठिन फिर भी जाना हैं
हर घाव दर्द को अपनाना हैं
लकीरों को घर पे छोड़ के
कर्मो को हाथों में लिए
देखो चला मुसाफिर रे

-


Show more
70 likes · 4 comments
Priyanshu 12 JUN AT 10:10

होश आया तो जिंदगी के तरफ देखा
काटो से सजी सड़के,
अंगारों की पखडंडिया हरतरफ देखा
कोई रोता, तो कोई कराहता
तो किसी को खुशी के नशे में धुत
सड़को पर बिछी लाशों के उपर नाचते देखा
सबके सामने खाई बनी पड़ी थी
किसी को नजरे बचाते,
तो किसी को लड़ते, किसी को डरते
तो किसी को उन खाईयो मे सड़ते देखा
वहा सब थे चाहे वो अमीर हो , या गरीब
बच्चा हो या बूढ़ा या चाहे हो जवान
सबकी थी वहा अलग ही पहचान
कोई रोता कोई हंसता,
किसी को छण भर में खुश होते
तो फिर उसको दुखी होते देखा
इतने अलग अलग लोगो को
अनचाहे मौत के तरफ बढ़ते देखा
फिर सबके साथ खुद को भी मरते देखा
मरते देख खुद को नींद चली गई
आँखें खुलीं तो सोचा बुरा सपना था
थोडा पानी पिया,
फिर सोचा मैंने वास्तविक जीवन में तो इससे भी बुरा देखा है
आखिर इसमे क्या नया देखा
बाद में तकिया लगा के वापस सो गया...

-


Show more
59 likes · 4 comments
Priyanshu 9 JUN AT 17:25

खेल जहा जंग है, तो हुनर वहा तलवार ।
शीश, कबंध बट जाए, करो ऐसा वार ।।

-


85 likes · 4 comments · 8 shares
Priyanshu 9 JUN AT 17:00

इज़हार-ए-मोहब्बत आसान कैसे हो सकता है
यहा जो पाया ही नही उसे खोने का डर रहता है

-


72 likes · 10 comments
Priyanshu 8 JUN AT 21:51

पुरूषों के लिए (कविता)
👇

-


Show more
72 likes · 24 comments · 1 share

Fetching Priyanshu Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App