Palkesh Soni   (Palkesh)
38 Followers · 8 Following

Wordsmith✍❣
Insta:- thepalkeshsoni
Joined 7 June 2018


Wordsmith✍❣
Insta:- thepalkeshsoni
Joined 7 June 2018
Palkesh Soni 15 SEP AT 17:53

उसने पूछा क्या पसंद है तुम्हें ?
मैं बहुत देर तक देखता उसे रहा....

-


11 likes · 2 shares
Palkesh Soni 14 SEP AT 10:16

#हिंदी_दिवस

आज उस मां का दिन है,
जिसे वर्तमान पीढ़ी वृद्घ आश्रम
भेजने पर आतुर है!

-


10 likes · 1 share
Palkesh Soni 22 AUG AT 22:17

अब मेरे लफ्ज़ों में वो महक क्यों नहीं?


शायद अरसे से मैंने तेरा ज़िक्र नहीं छेड़ा!

-


Show more
11 likes · 2 comments
Palkesh Soni 6 AUG AT 14:33

रात से लड़ना,
चांद को पछाड़ना,
तारे छुपाना आंचल
में आसमान के
धूप दिखाना राहगीर को,
सूरज ने सिखाया है
रात को दिन करना,
ओर फिर सांझ ढले
समा जाना आंचल में
सागर के,पश्चिम में जा
फिर रात से लड़ना!
हमेशा पूरब-गामी होना,
यदि डूबना ना हो,
सूरज ने सिखाया है!

-


Show more
16 likes · 1 share
Palkesh Soni 21 JUL AT 15:20

सबसे ख़ूबसूरत कविता.....

-


Show more
10 likes · 2 comments · 1 share
Palkesh Soni 19 JUL AT 19:15

उन्होंने पूछा क्या करते हो तुम?
मैनें कहा तुम्हे देखता हूं,
सोचता हूं,सुनता हूं,
तुझी को गुनगुनाता भी हूं।
तुझे ही ख्वाबों में पाता भी हूं।
आजकल मैं तुझ से बड़ा
"जुड़ा-जुड़ा" सा लगता हूं,
तेरे मेरे बीच में कोई
"कनेक्टिंग-वायर" है क्या?😍
वो बोली बातें तेरी बहुत मक्खन वाली है,
शराफत भी है-शरारत भी!
पलकेश! तू कोई "शायर" है क्या?😂

-


5 likes · 1 share
Palkesh Soni 11 JUL AT 0:56

मैनें फक़त गुनगुनाए थे,चंद मिस़रे तेरी यादों के बाग़ों में,
ज़ालिम शाखों ने फूलों में ये रंग छेड़ दिया!

चले ही थे साथ कुछ लम्हात के लिए,
अफ़वाह होगयी भंवरे ने तितली को छेड़ दिया!

हक़ीकत ही तो है जो लिखा है,तुम ही बताओ
तुमको चांद कह दिया तो क्या तुमको छेड़ दिया?

एक तेरा नाम ही तो लिखा था,आखरी पन्ने पर किताब के
कोई जायदाद के काग़ज़ात थे नहीं जिसको हमने छेड़ दिया!

हंगामा तो तब होगया बड़ा ज़ोर से मुहल्ले में,
मामला जब ये मास्टरजी ने घर में छेड़ दिया!

-


12 likes · 2 shares
Palkesh Soni 29 JUN AT 19:18

स्मृतिशेष!

-


Show more
7 likes · 1 share
Palkesh Soni 26 JUN AT 19:46

मौसम का गुरूर तो देखो,
जैसे तुमसे मिलकर आया हो...⛈

-


9 likes · 1 share
Palkesh Soni 22 JUN AT 15:14

Read full poem in caption..


पर मैंने तो सुना है
प्रेम श्रृंगार है!
वसंत-कारक है!

-


Show more
12 likes · 2 comments · 2 shares

Fetching Palkesh Soni Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App