Palkesh Soni   (Palkesh)
32 Followers · 5 Following

Wordsmith✍❣
Insta:- thepalkeshsoni
Joined 7 June 2018


Wordsmith✍❣
Insta:- thepalkeshsoni
Joined 7 June 2018
Palkesh Soni 18 APR AT 11:56

आरज़ू बचपन से थी, चांद से मुलाक़ात की,
और फिर हुआ यूं,हम आपसे टकरा गए!😍

-


4 likes · 1 share
Palkesh Soni 3 APR AT 10:57

चाँद को आसमान से धक्का दे,
जमीन पर कुछ ग़ुलाब खीला देती है,
रोज़ सुबह, सूरज के संग ये साज़िश रचती है!

-


4 likes · 1 share
Palkesh Soni 30 MAR AT 23:07

आज चांद इतरा बहुत रहा है,
ज़रूर तुमने अपने जैसा कहा होगा!

-


6 likes · 1 share
Palkesh Soni 28 MAR AT 23:47

जो लगता है तुम्हे चन्द अल्फ़ाज़ों का मेला,
मेरे ख़्वाबों की मूकम्मल दास्तां है ये!

-


7 likes · 4 shares
Palkesh Soni 13 MAR AT 18:22

Read full poetry in caption..

||कविशाला||
यहां न प्याला कोई मिलेगा
ना ही मिले कोई हाला,
जब कविता का लगता मेला
शाश्वत होती कविशाला।।

एक चला था पीने को
अब एक चला लिखने वाला,
नशा एक सा दोनों में है
हो शब्द या हों हाला।।

-


Show more
8 likes
Palkesh Soni 8 MAR AT 16:43

1.सृष्टिकारिणी~the reason behind all of us.
2.सृष्टि~we all are incomplete without her.
3.संहारिणी~destroyer / if angry.

-


Show more
14 likes
Palkesh Soni 4 FEB AT 21:34

मन्दिर-मस्ज़िद-मूर्ति-मजारों में मत ढूंढ़ो उन्हें,
जिनके कंधो पर बैठकर तुमने दुनिया देखी है उन्ही को ख़ुदा कहते हैं!

-


12 likes · 3 comments · 1 share
Palkesh Soni 21 JAN AT 23:52

राह देख ये थकती नहीं,
मेरी आंखों में किसीका ख़्वाब रखा है!
वो राहगीर है,मंज़िल पर नहीं पहुंचा,
उसने अपना नाम नवाब रखा है!
हर पन्ना अब नई दास्तां सुनाता है,
मेरी किताब में भी एक गुलाब रखा है!
मैं बाहर से खाली चुप हूं,जो दिखता हूं,
अंदर मुझमें भी एक इंक़लाब रखा है!

-


7 likes
Palkesh Soni 3 JAN AT 17:35

इक रोशन मकां की ज़रूरत थी
वर्ना मुझे इन चिराग़ों से क्या लेना था....

-


9 likes · 3 shares
Palkesh Soni 29 DEC 2018 AT 17:43

When girls see vs. When it starts
cockroaches Flying😂

-


Show more
11 likes

Fetching Palkesh Soni Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App