धोके से छिपाया था
हल्का सा दबाया था
मुश्किल से भुलाया था
आज तुमने याद किया
तो दर्द फिर ताज़ा हो गया!

दर्द

28 JUN AT 22:08