Jyoti (Poetry & Ghazals)   (F/B-Poetry & Ghazals)
6.9k Followers · 37.6k Following

read more
Joined 12 April 2018


read more
Joined 12 April 2018
Jyoti (Poetry & Ghazals) 23 MAR AT 17:47

"मुश्किलों से बाहर आ रहे हैं ll
हम सब अपने घर अा रहे हैं ll"

-


Show more
618 likes · 31 comments · 1 share

"अपने-अपने घरों के अंदर कैद हो जाऐं ll
कोरोना से लडने हम सब एक हो जाऐं ll"

-


583 likes · 15 comments · 4 shares
Jyoti (Poetry & Ghazals) 22 MAR AT 21:02

"दरमियाँ दूरियाँ भी जायज हैं, कुछ दिनों के लिए ll
देश क्या से क्या हो गए, मज़ाक में जिन्होंने लिये ll"

-


Show more
446 likes · 33 comments · 2 shares
Jyoti (Poetry & Ghazals) 22 MAR AT 16:18

"दरमियाँ दूरियाँ भी जायज हैं, कुछ दिनों के लिए ll
देश क्या से क्या हो गए, मज़ाक में जिन्होंने लिये ll

-


Show more
379 likes · 6 comments · 1 share

"गाँव में रहें या शहर में रहें ll
बहुत जरूरी है कि घर में रहें ll"

-


Show more
432 likes · 10 comments · 10 shares
Jyoti (Poetry & Ghazals) 21 MAR AT 21:17

"गाँव में रहें या शहर में रहें ll
बहुत जरूरी है कि घर में रहें ll"

-


Show more
392 likes · 23 comments · 4 shares

"बेहतर की उम्मीद करें, मगर बद्तर के लिये तैयार रहें ll
जीवन में हर परिस्थिति, हर सफर के लिये तैयार रहें ll"

-


Show more
779 likes · 38 comments · 1 share

"अकेले चलने में जरूर हीचकिचाहट सी लगती है ll
पर मिलकर चलने में सिर्फ दिखावट सी लगती है ll
अपनी मेहनत से कुछ मिले तो मज़ा ही कुछ और है;
मिलकर सब-कुछ भी मिले तो मिलावट सी लगती है ll"

-


Show more
386 likes · 22 comments · 2 shares
Jyoti (Poetry & Ghazals) 19 MAR AT 22:10

"अकेले चलने में जरूर हीचकिचाहट सी लगती है ll
पर मिलकर चलने में सिर्फ दिखावट सी लगती है ll
अपनी मेहनत से कुछ मिले तो मज़ा ही कुछ और है;
मिलकर सब-कुछ भी मिले तो मिलावट सी लगती है ll"

-


Show more
333 likes · 49 comments · 3 shares






-


Show more
410 likes · 36 comments · 1 share

Fetching Jyoti (Poetry & Ghazals) Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App