Rupal Singh   (रूपल सिंह 'भारतीय नारी')
773 Followers · 42 Following

read more
Joined 11 November 2017


read more
Joined 11 November 2017
Rupal Singh 8 AUG AT 13:10

जितने हक से मैं तुम्हें अपना कहती हूँ ना,
उतने ही हक से खुद को तुम्हारा लिखा है मैंने।

-


Show more
34 likes · 12 comments · 4 shares
Rupal Singh 4 AUG AT 10:12

वो अजनबी थे फिर अपने से लगने लगे,
मिलकर उनसे जैसे मेरे हर ज़ख्म भरने लगे,
वो मेरी हँसती आखों में छुपे आँसू ढूंढ भी लाते हैं,
मैं जब भी किसी मुश्किल में होती हूँ,
वो दूर होकर भी सबसे करीब नज़र आते हैं।

-


Show more
43 likes · 19 comments · 3 shares
Rupal Singh 4 AUG AT 9:52

ज़रुरी नहीं हर तकलीफ़ मोहब्बत ही दे,
हमको तो कितनों की दोस्ती रुला गई।
किस्से बहुत सुनें थे एकतरफा प्यार के,
हमको ज़िन्दगी एकतरफा दोस्ती से मिला गई।

-


Show more
41 likes · 11 comments · 2 shares
Rupal Singh 2 AUG AT 13:53

कलम चलाना तो दूर उठाने का तरीका न था,
तेरे मिलने से पहले हमें शायरी का सलीका न था,
तेरे आने से मिल गए हमारी मोहब्बत को मायने,
वरना ये दिल हमारा तो कहीं का न था।

-


42 likes · 9 comments · 2 shares
Rupal Singh 29 JUL AT 9:02

ये लिखा है वेदों-पुराणों में दया भाव ही मानवता का अर्थ है,
रख नाम जुबां पर भोले का दुनियादारी में पड़ना व्यर्थ है।

-


Show more
40 likes · 8 comments · 2 shares
Rupal Singh 22 JUL AT 9:03

शिव नीलकंठ विषधारी हैं,
शिव तीनों लोक त्रिपुरारी हैं,
जिसने जीती शिव की भक्ति,
उससे फिर दुनिया हारी है।

शिव धरती हैं शिव अम्बर हैं,
शिव ही तो मेरे दिगम्बर हैं,
है सत्य नहीं कोई शिव सा
शिव ही तो सबसे सुन्दर हैं।
शिव ही तो सबसे सुन्दर हैं।

-


Show more
50 likes · 30 comments · 2 shares
Rupal Singh 17 JUL AT 8:24

मुझे ज़िन्दगी के तूफानों से लड़ना सिखाते हैं भोलेनाथ,
ख़ुद ही मुश्किलों में डालते हैं और ख़ुद ही उनसे निकालते हैं भोलेनाथ।

-


Show more
64 likes · 42 comments · 1 share
Rupal Singh 12 MAY AT 7:40

पोछ देती है पसीना भी आँचल से
मेरा मेरे हाथ लगाने से पहले,
वो माँ है जो मेरी हर तकलीफ़ जान लेती है
मेरे कुछ भी बताने से पहले।

वो सिखाती है जीवन के असल मायने
हमको स्कूल जाने से पहले,
थाम लेती है वो हाथ हमारा
रास्तों की ठोकरें खाने से पहले।
वो माँ है जो मेरी हर तकलीफ़ जान लेती है
मेरे कुछ भी बताने से पहले।

ग़लती हो जाने पर अपनी गोद में सुला लेती है
पापा के घर आने से पहले,
ख़ुद ही डाँट कर खुद ही मना लेती है
बैठकर मेरे आँसू बहाने से पहले।
वो माँ है जो मेरी हर तकलीफ़ जान लेती है
मेरे कुछ भी बताने से पहले।

-


59 likes · 18 comments · 2 shares
Rupal Singh 8 MAY AT 7:39

एक नए सफर की तेरे जीवन में शुरुआत हुई है,
प्रेम रस की इस डोर ने रिश्तों की माला पिरोयी है,
दिल की हर धड़कन तूने शब्दों की चाशनी में भिगोयी है।
ये प्रार्थना है मेरी हमेशा खुश रखें तुझे भोलेनाथ,
यूँ ही बना रहे जन्म-जन्म तक ये रिश्तों का साथ,
न अब कोई तकलीफ़ हो न गम की हो कोई बात,
हर दिन खूबसूरत हो तेरे जीवन का और खुशनुमा हो हर रात।
Happy birthday meli pritu 🎂💕😘

-


Show more
63 likes · 28 comments · 2 shares
Rupal Singh 5 MAY AT 22:03

मेरी नई कविता

-


Show more
47 likes · 11 comments

Fetching Rupal Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App