Arunima Gupta   (Arunima Gupta)
745 Followers · 103 Following

Follow me on Instagram @the_immature_inker
Joined 9 September 2017


Follow me on Instagram @the_immature_inker
Joined 9 September 2017
Arunima Gupta 26 MAR AT 16:52

'The Lost Soul'

-


Show more
19 likes · 1 comments
Arunima Gupta 23 MAR AT 18:46

Letter to Roomie!

-


Show more
23 likes · 1 comments
Arunima Gupta 22 MAR AT 16:04

The PAUSE

-


Show more
12 likes
Arunima Gupta 2 MAR AT 20:07

इस बेइंतहा नफरत के बीच एक मुस्कान ढूंढ़ने निकला हूं,
सच कहूं तो जनाब
मैं बचपन वाला
बेपरवाह खिलखिलाता मकान ढूंढ़ने निकला हूं!

-


21 likes · 2 comments
Arunima Gupta 28 FEB AT 20:33

निकले हैं फिर से आज गली में तुम्हारी,
कुछ मील दूर चलने के लिए,
मंसूबे तुम्हारी तलाश के नहीं अब।
तार्रुफ़ इस दफा खुद से होगा।

-


19 likes · 1 comments
Arunima Gupta 26 FEB AT 12:02

मिलते हो रोज़ तुम किसी ख्वाब की तरह
हर सहर फिर से बिछड़ने के लिए,
छोड़ जाते हो अनगिनत यादें सिरहाने पर
उन्स की सिलवटों में उलझने के लिए!

-


22 likes · 3 comments · 1 share
Arunima Gupta 26 JAN AT 10:28

न कोई धर्म है छोटा है न कोई जाति भी महान है
मेरे लिए तो मेरी आराधना ही हिंदुस्तान है,
परिवार से हूं दूर, बहन भी परेशान है
पर सरहद पर लहू बहाना ही मेरे लिए शान है!

कोई ले आया भगवा तो किसीने रंग हरा मिला दिया
बदलते रिश्तों के बीच फासला थोड़ा और बड़ा दिया,
पर खुश हुआ था मैं उस बच्चे को देश की हिफाज़त करता देख
जिसने तीन रंग जोड़े और मोहब्बत से 'तिरंगा' बना दिया!

अमन की उस लड़ाई में मैं भी एक शहादत हूं,
छोड़ कर के पाठ पूजा अब माँ की मैं ही इबादत हूं।
अरे क्या हुआ जो मिल गया इस माटी में तेरे लिए
सरफरोशी के बाद भी हर दिल में मैं सलामत हूं!

-


19 likes · 2 comments
Arunima Gupta 9 NOV 2019 AT 20:33

क़ैद ही रहने दो एहसासों को इन पन्नों में कुछ दफा
शायद तबाही लफ़्ज़ों से जानम अभी मुनासिब नहीं!

-


29 likes · 1 comments
Arunima Gupta 4 OCT 2019 AT 16:57

एक मुलाकात के लिए हमेशा तेरा इंतज़ार करता था,
कभी वो दिन भी था
जब मैं तुझे खुद से भी ज़्यादा प्यार करता था!
बदले मौसम, रुख फिज़ाओं का बदल गया
आज रोता है वो दिल भी,
जो कभी तुझ पर ऐतबार किया करता था!

-


26 likes · 1 share
Arunima Gupta 29 SEP 2019 AT 1:52

चले थे वो हमारी खामोशियों का शोर समझने
अल्फ़ाज़ भी ना सुन पाए जब ज़िक्र इश्क़ का हुआ!

-


25 likes · 8 comments · 2 shares

Fetching Arunima Gupta Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App