Ankita Tripathi   (Ankita (नफ्स़)🦋)
10.9k Followers · 156 Following

read more
Joined 24 May 2017


read more
Joined 24 May 2017
Ankita Tripathi 9 HOURS AGO

उम्र का तजुर्बा कभी नही बेकार होता है
ये ही तो असल में असली सरदार होता है

मुमकिन है कि इसे सारे सबक याद ही होंगें
ज़िन्दगी-मौत का नही ,कोई आसार होता है

-


Show more
63 likes · 8 comments
Ankita Tripathi 14 HOURS AGO

नज़्मों को तुम्हारी आवाज़ देकर के मैं
उम्र भर के लिये अमर होना चाहती हूँ
हाँ पहली दफ़ा कहा था तुमनें कि मुझे
खुद को सुनना है,तुम्हारी आवाज़ में
मुझे याद कि मैं तुम्हारी कही बात को
बहुत देर तक नही समझ पायी थी,
जब समझी तो लगा कि शायद मुझे
कोई फ़िर से ढूँढ़ना चाहता है,या सच
कहूं तो शायद तुमनें मुझे ढूँढ़ ही लिया
मेरी कविताओं में,मेरी शायरियों में,
मेरी हसरतें तमाम थी लेकिन वक़्त के
साथ-साथ कम होती चली गयीं,
अब तो बस लिखके तुम्हें कभी-कभी
सुकून क़ायम कर लेती हूँ!!!!

-


Show more
77 likes · 12 comments · 1 share
Ankita Tripathi YESTERDAY AT 23:02

मुझे ख़्वाब का इंतज़ार रहा
और उसे रात का......!!!!

-


Show more
103 likes · 15 comments
Ankita Tripathi YESTERDAY AT 9:22

करम, नवाजिश और रहम नहीं चाहिए
हमनें माँ का आँचल ओढ़ रखा है !!!

-


Show more
102 likes · 16 comments · 1 share
Ankita Tripathi 14 JUN AT 0:15

वो हाथों में फ़िर से गुलाब चाहते हैं
शबाब के साथ मोहब्बत नहीं, शराब चाहते हैं

-


Show more
122 likes · 27 comments · 1 share
Ankita Tripathi 13 JUN AT 19:01

बहकाने को काफ़ी थी आहट ही तुम्हारी
तुमने तो छू के सांसें ही रोक दी

-


Show more
125 likes · 39 comments · 1 share
Ankita Tripathi 12 JUN AT 23:08

नदी सी प्यासी उफान पे आ जाती हूँ
मैं ख़ुद को डुबाने तूफ़ान पे आ जाती हूँ

-


Show more
108 likes · 26 comments
Ankita Tripathi 12 JUN AT 9:25

मुझे चाय की तलब है या चाय को मेरी
कैसी भी हो तमन्ना बस चाय पे ठहरी

-


Show more
130 likes · 24 comments
Ankita Tripathi 11 JUN AT 22:09

दिल भी मजबूर है अभी जज़्बातों के लिये
मरहम ही चाहिए कमज़र्फ हालातों के लिए

तुम्हें सोचने भर से ही लिख देती हूँ आजकल
मेरे लफ्ज़ भी कम पड़ते हैं ख़्यालातों के लिए

-


Show more
98 likes · 24 comments
Ankita Tripathi 11 JUN AT 17:14

मुझे करके दरकिनार जो मज़े सरेआम करते हो
जानते हो जान को मुश्किल में जान करते हो

कितनी तड़प होती है सीने में तुम्हें यूँ देखके
हमें दर्द देके ख़ुद की राहें आसान करते हो

हर तरफ़ हम ही मिलें तुम्हें ये ज़रूरी तो नहीं
फ़िर भी तुम अपनें रंगीन अरमान करते हो

राधा-श्याम सा प्रेम ही सीखा था अब तलक
तुम तो नयी तरह के प्रेम का विधान करते हो

मेरे जाने के बाद शायद समझोगे मेरी कमी को
आज तभी हमसे ज़यादा सबपे अहसान करते हो

-


Show more
110 likes · 25 comments · 2 shares

Fetching Ankita Tripathi Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App