Ankit Verma   (♠️nkit ♥️erma)
4.0k Followers · 15.0k Following

read more
Joined 18 October 2017


read more
Joined 18 October 2017
Ankit Verma 12 JUN AT 21:43

वादे बिस्तर लोगों के इरादे बिस्तर।
बातें बिस्तर कुछ मुलाकातें बिस्तर।
रातें बिस्तर कुछ की चाहतें बिस्तर।

-


36 likes · 1 comments
Ankit Verma 9 JUN AT 12:48

इश्क़ भी रिश्तों की छुट्टियाँ मनाता है ग़ालिब।
कभी उसकी जीत की। तो कभी मेरी हार की।

-


38 likes · 2 comments
Ankit Verma 8 JUN AT 21:28

I Love Her.
She Love Her.
We love Her.

-


Show more
32 likes · 4 comments
Ankit Verma 8 JUN AT 10:48

तुम्हारे अल्फ़ाज़ों में आज भी वो ज़िंदा तो है ग़ालिब।
मगर सिर्फ़ अल्फ़ाज़ों से इश्क़ की रोटी नही सिकती।
कोशिश करो के "तन्हा दिल" को अभी संभाले रखो।
जो गुम हुए है उनसे कहदो के आशिक़ी नही बिकती।

-


Show more
30 likes · 2 comments
Ankit Verma 5 JUN AT 10:23

ईद भी आ गयी ग़ालिब मगर उसका जवाब नही आया।
ताज़ की शक़्ल में आज मेरा मुमताज़ नज़र नही आया।
क्या वजह है कि वो हमें वक़्त की आड़ में भूल चुके है।
वो बन गये क्या बड़े लोग जिन्हें ताज़ नज़र नही आया।

-


41 likes · 2 comments
Ankit Verma 4 JUN AT 18:27

कहते है इश्क़! "निगाहों का निगाहों" से मिलने पर मुकम्मल होता है।
और एक हम है ग़ालिब! के उनकी सूरत को देखे बिना इश्क़ कर बैठे।

-


39 likes · 8 comments
Ankit Verma 4 JUN AT 14:37

गिराने वाले बहुत है मगर चाहने वाला नही।
इश्क़ एक पाठशाला है कोई मधुशाला नही।
लेखक की ज़िन्दगी में, इश्क़ एक शब्द नही।
लेखक! लेखक! से इश्क़ करे, मुमकिन नही।

-


34 likes
Ankit Verma 4 JUN AT 11:36

दौर थे ज़मानों के भी जब ज़माने दौर लिखते थे।
अब दौर है बेईमानों के! बेईमान दौर लिखते है।

-


39 likes · 1 share
Ankit Verma 3 JUN AT 16:51

'खुदा' भी नही मिलाता उनसे, जिनकी हमें ज़रूरत है।
पता है उसे कि हम ज़िंदगी को आसान न समझ बैठे।

-


43 likes · 2 comments
Ankit Verma 2 JUN AT 23:12

फ़ितरते बदलते देखी है मैने हस्ती मुस्कानों की।
अब हँसी गायब है धुँए में उड़ते कब्रिस्तानों की।

-


40 likes

Fetching Ankit Verma Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App