Amit Singh Chauhan   (Amit)
2.0k Followers · 2.6k Following

I strongly believe in love...becoz love is the word who makes me always happy....
Joined 4 October 2019


I strongly believe in love...becoz love is the word who makes me always happy....
Joined 4 October 2019
26 AUG 2020 AT 16:39

दिल में ज़हर भरा मुह पे मेहरबानी क्यों
जो हे तू नई वोही बनके दिखानी क्यों !
एन्नी जल्दी जाना ताली भी ना बजी जिन्नी जल्दी
चार चिल्लर पे बिक गये जवानी यूं !

मेरे फासले भी ज़माने से कम नही
और तू भी बोल गयी मुझे बोलने का ढंग नई !
था कसूर मेरा इतना मैं झूका नही
वो होती Self respect जाना वो घमंड नही!

-


25 AUG 2020 AT 13:29

जब जिगर जले
तब-तब आँखो में आग उठे ।

जब शिखर चढ़े तब
एक को देख कर लाख जुटे ।

जब कदर करे मेरी रूह
तो ये जज्बात लूटे ।

बस कह गये वो सब
जो भी हमे आज दिखे!

Amit










-


13 AUG 2020 AT 11:56

Magic Happens When Stupid
Artists See impossible dreams..

-


31 JUL 2020 AT 17:29

हिचकियों में क्या मरना
अगर मरना हे,तो पुरा मर ले

आँखों को नम हमेशा क्यों करना
अगर रोना है,तो जी भर के रो ले

किसी को खास बना कर क्यों छोड़ देना
अगर छोड़ना है,तो बीच के मलाल को छोड़ दे

किसी के दिखावें पर क्यों जाना
अगर जाना हे,तो रूह तक जा कर देख ले

किसी के बातों का इल्म दिलो में क्यों रखना
अगर रखना है,तो अच्छी यादें रख कर देख ले

किसी के साथ मतलबी क्यों बनना
अगर बनना है,तो हमसफर बन कर देख ले

किसी की नम आँखों को देखकर उसे अकेला क्यों छोड़ना,उसे एक बार गले लगाकर तो देख ले !

-


26 JUL 2020 AT 15:55

You see inside our heart no one is in there, so do not let your tears come out of someone..Who do not deserve it!

-


22 JUL 2020 AT 17:21

लहरों के खिलाफ तैरना बोहोत मुश्किल हैं
लेकिन,
अगर तुम ये कर पाओ
शायद वहाँ पहुँचओग
जहाँ कोई नही
पहुँच पाया है!

-


20 JUL 2020 AT 19:10

एक गली थी उस शहर की ,
जिससे हम निकले
पर ऐसे निकले की जैसे दम निकले !
# MISSING KOTA

-


17 JUL 2020 AT 10:16

आज अपनी माँ को देखकर,
कुछ नज़्म याद आया!

की एक माँ की ताकत इतनी है,
की उसे मकान दो तो घर बना देती है,
उसे अनाज दो तो खाना बना देती है,
और
उसे प्यार दो तो जान लुटा देती है !


-


11 JUL 2020 AT 17:11

मैने सुना है, की ऐसा बार-बार नही होता
फिर भी एक कोशिश करके देखते है
एक और बार इश्क़ मे होकर देखते हैं।

क्यों ना ओढ़ लिया जाए बंजार मिजाजी
क्यों ना पहन लिया जाए आवारापन
आओं दर्द में कुछ मजा ढूंडते है
एक और बार इश्क़ में होकर देखते है।

जिन्दगी का सफर है
रफ्ता रफ्ता कट ही जाएगा,
मगर इश्क़ की बात हमसे बेहतर कौन समझाएगा ।

तुम आओ कभी अमावस को फीर चाँद तक रहगुजर
बन कर देखतें है
एक बार और इश्क़ में होकर देखते हैं
एक बार और इश्क़ में होकर देखते हैं!


-


5 JUL 2020 AT 20:13

एक रूह है जिसको सुकून की तलाश हैं
एक मिजाज है जिसको आवारगी की तलब हैं ।

-


Fetching Amit Singh Chauhan Quotes