Vihaan   (Vihaan✍)
7.3k Followers · 119 Following

read more
Joined 27 March 2017


read more
Joined 27 March 2017
Vihaan 5 HOURS AGO

इस सफर पर मिला मुझे, अब तक कई दोस्त।
जो मंजिल तक मिरे साथ रहा, बस वही दोस्त।

हर चेहरे पर नकाब और फिर नकाब पर भी चेहरे,
नकाब उतरता गया फिर तो कोई बचा नहीं दोस्त।

जमाने ने आकर बताया तुमको मेरी हज़ार कमियां,
कोई मुझे बस मुझसे जान पाया, वो है यही दोस्त।

कभी तूफ़ाँ उठे तो कभी हालातों ने मुझे मौन किया,
खुद को उलझा जो मुझे सुलझा दे , वो सही दोस्त।

रातों को जगाकर जो रोज आँखों में ठहरता 'ख्वाब'
आजमाया सबको पर मिला तुझ सा कोई नहीं दोस्त।

-


Show more
51 likes · 7 comments
Vihaan 10 OCT AT 11:39

हम निभाते रह गए पूरे ज़माने भर से,
हमारा हम बस कभी मेरा न हो पाया।

-


Show more
96 likes · 5 comments · 1 share
Vihaan 27 SEP AT 22:53

...

-


Show more
124 likes · 15 comments
Vihaan 22 SEP AT 16:56

नाराज़गी है तुमसे लेकिन अब बताने नहीं आऊंगा।
मसरूफ़ रहना जहाँ कहीं, अब सताने नहीं आऊंगा।

हमदम थे ताबीर की, बेशुमार तलब थी तुझे पाने की,
बुलाओगी भी कभी अब, तो हक़ जताने नहीं आऊंगा।

तेरे तक़ब्बुर ने इस मोम को फिर पत्थर सा बना दिया,
ये टूट कर बह भी जाये तो तुम्हें झुकाने नहीं आऊंगा।

नर्गिस में डूबकर जो नायाब तख़य्युल देखा था हमने,
वो सब कुछ तुझे सुना कर कभी रुलाने नहीं आऊंगा।

तेरे लबों के स्वाद से महरूम होना तड़पायेगा हमेशा,
मैं अपनी प्यास बुझाने कभी तेरे मयखाने नहीं आऊंगा।

तेरे हुस्न की ऐसी कदर न कोई रक़ीब कर सकेगा,
तुम रूठना मत किसी से, मैं अब मनाने नहीं आऊंगा।

-


Show more
133 likes · 56 comments · 11 shares
Vihaan 19 SEP AT 17:33

अफ़सोस कि इस ज़िन्दगी तुम्हारे बन न सके जानाँ,
कब्र से लिपट ये आख़िरी मलाल भी ख़त्म कर देना।

-


Show more
145 likes · 34 comments · 13 shares
Vihaan 16 SEP AT 23:31

आँसुओं के वज़न से मैंने दुनिया को तौला है।
जो सबसे करीब था, वो आखिरी तक छलका।

-


138 likes · 22 comments
Vihaan 16 SEP AT 0:18

मौत बाहें खोलकर तैयार बैठी है।
जिम्मेदारियों ने हाथ थाम रखा है।

-


125 likes · 20 comments · 2 shares
Vihaan 13 SEP AT 13:57

मुझसे दूर होकर भी, मेरे इतने पास रहती हो।
टूटा दिल जोड़ दे जो , हर वो बात कहती हो।
ख़्वाबों का आँखों से झगड़ा, दिल तड़पाता दोनों का
बादल सा मैं गरजता हूँ और तुम बरसात सहती हो।

-


Show more
106 likes · 27 comments
Vihaan 9 SEP AT 16:05

हर किसी का ज़ख़्म मेरे ज़िस्म को नसीब हुआ।
निशां उनके ज़्यादा दिखे, जो जितना क़रीब हुआ।

-


Show more
134 likes · 21 comments · 6 shares
Vihaan 5 SEP AT 17:11

Then:
Tumko meri kasam tum smoking drinking nahi karoge.

Now:
Tumko meri kasam mere padhne ke pehle message "Delete for Everyone" nahi karoge 😆🤷‍♂️

-


84 likes · 16 comments

Fetching Vihaan Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App