Aरिफ़ Aल्व़ी   (कोरा काग़ज़....✍ (Arif Alvi))
2.7k Followers · 3 Following

read more
Joined 5 February 2019


read more
Joined 5 February 2019

ज़िन्दगी है ही शर्मनाक
तलाक़ तलाक़ तलाक़

-


Show more
141 likes · 57 comments · 11 shares

कुछ डूबे कुछ बह गये
पर तुमको इससे क्या

बिन कहे सब कह गये
पर तुमको इससे क्या

-


Show more
233 likes · 104 comments · 13 shares

एक तुम ही तो थे दिल में
धोखा देकर घुस गये बिल में

-


Show more
252 likes · 147 comments · 12 shares

इसी ज़मीं का बन्दा हूँ मैं
करता इसी को गन्दा हूँ मैं

-


254 likes · 105 comments · 12 shares

दर्द तुझको सौंप दिया मैंने
मिटा जबसे ख़ौफ़ दिया मैंने

-


253 likes · 77 comments · 11 shares

तुम्हें ख़ुश देखना चाहूँ अगर कहो
कभी तो तुम मुझे अपना घर कहो

-


283 likes · 62 comments · 11 shares

दो दिलों का यही फ़साना
कभी रूठना कभी मनाना

-


271 likes · 106 comments · 12 shares

क्या उनको याद करके सोया
जो देश आज़ाद करके सोया

-


226 likes · 88 comments · 8 shares

कश्मीर से कन्याकुमारी
स्वतंत्र है हर नर - नारी

-


208 likes · 77 comments · 11 shares

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई
बहुत हुआ आगे बढ़ो भाई

-


282 likes · 88 comments · 11 shares

Fetching Aरिफ़ Aल्व़ी Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App