Language Festival 2018

#stories

15295 quotes

YourQuote
YourQuote
.....

एक दिन में अपने शहर दिल्ली से लखनऊ जा रहा की तेज़ गति से दौड़ती ट्रेन कुछ भी लिखने का मौका नहीं दे रही थी कई स्टेशन में ट्रैन रुकने बाद जब अलीगढ़ स्टेशन पर रुकी तो चाय वालो की आवाज़ के बीच एक और आवाज़ थी जो की कह रही थी साहब सुबह से खाना नहीं खाया है एक पेन ले लो सिर्फ 5 रूपया की तो है में झट से उठ ट्रेन के गेट तक पहुँचा और उन अम्मा जी को आवाज़ दी और मेरे पास आयी शायद वो सच में भूखी थी उन्होंने फिर वही बात दोहराई तो मैंने अम्मा जी को 20 रूपया पकड़ा दिए कि आप खाना खा लेना लेकिन अम्मा जी ने मुझे 4 पेन पकड़ा दिए मैंने अम्मा से कहा भी कि आप अपने ये पेन किसी और को बेच लेने पर जो जवाब अम्मा जी ने मेरे को दिया उसको सुनकर आँख भर आयी वो बोली बेटा भीख मांगने से अच्छा है की कुछ मेहनत करके अपना पेट भरूं इतना बोलने के साथ ही अम्मा ने मेरे सर पर हाथ रखा और चली गयी ट्रैन भी सीटी दे चुकी थी में नम आँखों के साथ गेट पर ही खड़ा रहा आँखों से ओझल होती वो बूढी अम्मा और दूर भागते प्लेटफार्म से काफी दूर निकल आने के बाद में यही सोचता रहा कि ना जाने कितने प्लेटफार्म पर इन जैसे कितने लोग अपनी पेट की आग बुझाने के लिए जिद्दोजहद करते होंगे ....विनती करता हूँ आप सबसे भी कि कहीं भी ऐसे लोग देखे तो बिना किसी जरुरत के भी सामान खरीद लिया करो हो सकता है आप के ख़रीदे हुए सामान की वजह भूखे का पेट भर जाए क्योंकि साहब इस दौर में दुआ बड़े नसीब वालों को मिलती है एक गुमनाम लेखक #शाहरुख़_उस्मान_देहलवी #yqbaba #yqdidi #yqtales #yqquotes #yqbhaijan #hindi #stories

3 HOURS AGO