#baap

112 quotes

Shiddat se chale hai jannat ko pane 
Anjan 
Bhul gye hai janat ka dusra naam maa baap hai

Janna#maa#baap#

YESTERDAY AT 11:39

अब इस कलयुग के सफर में ,

कोई पूछता कि सुकून है कहाँ ....

बस अपनी आंखें बंद करता हूं मैं ,

और याद आ जाती है मुझे मेरी " माँ "

           .... @ the poet.. 🤔🤔

Pic credit :- Resplash App Images ●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●● कहने का अर्थ है कि इस कलयुग में सुकून अगर मिलेगा कही तो सिर्फ माँ के पास , और कही ढूढने की जरूरत भी नही ... बड़े ही बेहुदा होते है वो लोग जो इनकी क़द्र नही करते और बुढ़ापे में जानवर से भी खराब व्यवहार करते है .... Respect Parents..🤗🤗 धन्यबाद.. 🙏🙏 ●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●● #yqbaba #maa #baap #sukoon #life #kalyug #safar #yqdidi

22 FEB AT 10:51

Mandir Majid Mein Jaake Tum Jitna Bhi Chilalo
Milne Wala Nhi Hai Koi Allah Ya Bhagwan
Mata Pita Ke Rupp Mein Aaye Jab Khud 
Kyuin Gali Dete Ho Unko
Har Bar Kyuin Galat Sabit Karte Ho Unko
Jab Bade Jarurat Unki Toh Kyuin Rotee
Jaake Bhagwan Ke Paas
Manngo Maafi Jaake Unke Paas
Ish Papi Sansar Mein Bas Bhagwan Hai To Kahi
Woh Tumhare Maa Baap

#maa#baap#he#hai#apne#bhagwan

19 FEB AT 13:02

माँ के चरणों मे जो दम है वो कहाँ है ब्रह्मा के वरदानों में,
माँ तो जीती जागती ईश्वर है मत ढूंढो पत्थर के भगवानो में,

खुद तो कंकड़ पत्थर पर चलती है पर हमें जूते पहनाती है,
खुद तो सूखे निवाले खा है पर हमें दूध रोटी खिलाती है,

वह थककर ज़मीन पर सोती है पर हमें बिस्तर पर सुलाती है,
 वो जब हमें तैयार करती है तो हममें राम की छवि निहारती है,

काला टीका लगाकर हमारी नज़र उतारती है,
काँटा लगने पर कपनी जिभ्या से सहलाती है,

ऐसी होती है माँ जिसके वक्ष स्थल में रसधारा है,
दौलतमंद बहुत हुए पर माँ का कर्ज किसने उतारा है,

माँ का यदि दिल दुखाओगे तो पाराशार नही होगा,
चाहे जितने तीर्थ करोगे मग़र उद्धार नही होगा।
©Papa

माँ के चरणों मे जो दम है वो कहाँ है ब्रह्मा के वरदानों में, माँ तो जीती जागती ईश्वर है मत ढूंढो पत्थर के भगवानो में, खुद तो कंकड़ पत्थर पर चलती है पर हमें जूते पहनाती है, खुद तो सूखे निवाले खा है पर हमें दूध रोटी खिलाती है, वह थककर ज़मीन पर सोती है पर हमें बिस्तर पर सुलाती है,  वो जब हमें तैयार करती है तो हममें राम की छवि निहारती है, काला टीका लगाकर हमारी नज़र उतारती है, काँटा लगने पर कपनी जिभ्या से सहलाती है, ऐसी होती है माँ जिसके वक्ष स्थल में रसधारा है, दौलतमंद बहुत हुए पर माँ का कर्ज किसने उतारा है, माँ का यदि दिल दुखाओगे तो पाराशार नही होगा, चाहे जितने तीर्थ करोगे मग़र उद्धार नही होगा। #yqbaba #yqtales #yqbhaijan #parents #maa #baap #shikhar

15 FEB AT 19:32